Latest News
Articles

मीडिया/जर्नलिज्म:शिक्षा एवं करियर

July 11, 2019

भारतवर्ष में इस वक्त 70 हजार से अधिक विभिन्न भाषाओं के अखबार और समाचार पत्रिकाएं तथा 80 से भी अधिक समाचार चैनल हैं| इसका अर्थ यह हुआ कि ना सिर्फ हमारे यहां पाठकों और दर्शकों की भरमार है ,बल्कि इसके अनुपात में वहां काम करने वालों का मैनफोर्स भी चाहिए| समाचार मिडिया के अंतर्गत आज सिर्फ छपाई से जुड़ा जर्नलिज्म ही नहीं आता है, बल्कि इसके तहत टीवी जर्नलिज्म, वेब जर्नलिज्म एवं रेडियो भी है| यानी हर जगह नौकरी तथा करियर के अवसर की भरमार है| अब सवाल उठता है कि मीडिया प्रोफेशनल बनने हेतु कौन व्यक्ति उपयुक्त है? सरल भाषा में कहें तो जिस किसी में रिपोर्ट भेजने का माद्दा हो, कहानियों को खोद निकालने का हुनर, और लिखने की प्रतिभा के साथ व्यवस्था पर सवाल उठाने का जिगर हो, वह व्यक्ति मीडिया प्रोफेशन के लिए सबसे उपयुक्त है| और तब उनके लिए अवसर का भी आभाव नहीं होगा| जिस व्यक्ति में अच्छा बोल पाने का हुनर हो , वह टीवी का माध्यम चुन सकते हैं, और जो लिखने में मजबूत और भाषाविद्द हो वो अखबार आदि की मेज पर बैठकर काम करें या रिपोर्टर बनके रिपोर्ट करें|

शिक्षा:

अधिकांश मीडिया इंस्टिट्यूट भारत में या तो अंडरग्रेजुएट डिग्री अथवा पोस्टग्रेजुएट या डिप्लोमा देते हैं| अतः यह निर्धारित करना मुश्किल होता है कि मीडिया की पढ़ाई हमे बारहवीं के बाद शुरू करनी चाहिए या किसी अन्य विषय में ग्रेजुएशन के पश्चात| इसके लिए कोई निश्चित मापदंड नहीं है| अंडरग्रेजुएट में दाखिला देने के वक्त अधिकांश कॉलेज विद्यार्थी में सामान्य ज्ञान और लेखन का हुनर जांचते हैं| अधिकांश जगह पर लिखित परीक्षा इंटरव्यू /ग्रुप डिस्कशन के जरिये दाखिले होते हैं |पोस्टग्रेजुएशन में भी यही प्रक्रिया रहती है, और उसमे दाखिले के लिए किसी भी विषय का ग्रेजुएट आवेदक हो सकता है | इस परीक्षा में तैयारी करने के लिए:-

सामन्य ज्ञान तथा सामान्य चेतना की पुस्तकें पढ़ें|

अखबार आदि पढ़ें, टीवी पर न्यूज़ चैनल देखें

मौलिक व्याकरण का अभ्यास करें

जितना मुमकिन हो समाचार कहानियां तथा लेख लिखने का अभ्यास करें|

प्रमुख शैक्षणिक संस्थाएं:

यूं तो कई यूनिवर्सिटीज के अनेकों कॉलेजों में BMM (बैचलर ऑफ़ मास मीडिया) नाम से तीन वर्ष का स्नातक कोर्स पढ़ाया जाता है, परन्तु इसके अलावा भी कई स्वायत्त संस्थाएं अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट लेवल पर पढाई कराती हैं |

उनमे से कुछ ख्याति प्राप्त संस्थाएं इस प्रकार है –

Indian Institute of Mass Communication, Delhi

Asian college of Journalism , Chennai

Xavier Institute of Communication, Mumbai

Symbiosis Institute of Mass Communication, Pune

Jamia Milia Ismalia’s Mass Communication Research New Delhi

Media Institute of Communication, Ahmadabad

इसके अलावा कई प्रख्यात न्यूज़ चैनलों ने भी अपने शोर्ट टर्मसर्टिफिकेट कोर्स चलाये  हुए हैं|

करियर:

जर्नलिज्म तथा मीडिया संस्थानों में कई तरह के कार्यों के लिए स्थान रहता है जिसमे प्रमुख है रिपोर्टर, एडिटर, न्यूज़ रीडर, न्यूज़ राइटर, एंकर, प्रोडूसर, बगैरह और हर एक के लिए अलग हुनर और दक्षता चाहिए| टीवी जर्नलिज्म के आने के साथ अब इससे जुड़े लोगों की अलग पहचान तथा सेलिब्रिटी स्टेटस बनने लगा है, तथा काफी अच्छी पगार भी ये लोग पातें हैं|प्रिंट मीडिया में भी कई सम्पादक एवं कालम लिखने वाले लोगों का काफी उच्च दर्जा रहता है , और उन्हें भी अच्छी ख्याति तथा पैसा मिलता है | आज इंटरनेट के आने के बाद वेब जर्नलिज्म का क्षेत्र भी बहुत विकसित हुआ है और जिसके साथ ही ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल तथा Blogs भी अपना स्थान बना चुकें हैं और बना रहें हैं जिनमे Youth Ki Awaaj, Buzzfeed, indiatimes,Oneindia Rediff New आदि प्रमुख हैं| मीडिया/जर्नलिज्म के कोर्स किये लोगों के लिए यहां भी रोजगार और करियर का बड़ा अवसर है| एक और विशेष बात यह ध्यान देने योग्य है कि जर्नलिज्म के करियर में अलग अलग तरह की दक्षता के क्षेत्र रहते हैं| जिनमे उस क्षेत्र के विशेषज्ञों को स्थान मिलता है| ये क्षेत्र राजनीतिक परिधि से लेकर खेल , विज्ञान कला, व्यापार, शिक्षा डिफेंस आदि हरेक विद्दा का होता है, जिसको लेके समाचार पत्र या टेलिविज़न/रेडियो आदि इनके विशिष्ट न्यूज़ रिपोर्टर /कमेंटेटर/एंकर आदि को रखते हैं |यानी हर एक क्षेत्र के लोगों के वास्ते मीडिया/जर्नलिज्म में करियर है| बस जरुरत है लगन,रूचि,अपार मेहनत की|

भारत की सबसे पुरानी मॉडर्न यूनिवर्सिटी कलकत्ता यूनिवर्सिटी
भारत की सबसे पुरानी आधुनिक यूनिवर्सिटी कलकत्ता यूनिवर्सिटी

Copyright © All Rights Reserved.

Subscribe to newsletter