Latest News
News

WHO: 2030 तक अवसाद दुनिया में ख़राब स्वास्थ्य का सबसे बड़ा कारण होगा

October 10, 2019

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक रिपोर्ट के आधार पर, 2030 तक अवसाद दुनिया में बीमार होने का सबसे बड़ा कारण होगा।

इस वर्ष, वर्ल्ड फेडरेशन फॉर मेंटल हेल्थ (डब्ल्यूएफएमएच) ने विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस 2019 का मुख्य विषय ‘आत्महत्या रोकथाम'(Suicide prevention) रखने का निर्णय लिया है। 2019 में वर्ल्ड मेन्टल हेल्थ डे के विषय में आत्महत्या की रोकथाम का उद्देश्य सरकारों का ध्यान आकर्षित करना है ताकि इस मुद्दे को दुनिया भर के सार्वजनिक स्वास्थ्य एजेंडा में प्राथमिकता दी जा सके।

एक रिपोर्ट के मुताबिक 6.5 प्रतिशत भारतीय जनसंख्या किसी न किसी गंभीर मानसिक विकार से पीड़ित है। जो यह दिखाता है कि मानसिक स्वास्थ्य एक व्यापक बीमारी के रूप में उभर रही है|

तनाव का प्रभाव न केवल किसी के मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ता है बल्कि फिजिकल कंडीशन पर भी प्रतिकूल प्रभाव डालता है।आत्महत्या के मामलों की बढ़ती संख्या, अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी), गेमिंग की लत और किशोर अवसाद तेजी से बढ़ रहा है।

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, आत्महत्या से एक वर्ष में दुनियाभर में 800,000 से अधिक लोगों की मृत्यु हो जाती है और यह 15 से 19 आयु के लोगों के बीच मृत्यु का प्रमुख कारण बनती है।

Copyright © All Rights Reserved.

Subscribe to newsletter