Latest News
Articles

साइंस और मैथमैटिक्स में शोध का प्रमुख केंद्र है TIFR

October 21, 2019

टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ़ फंडामेंटल रिसर्च (TIFR) हायर एजुकेशन के क्षेत्र में भारत का प्रेस्टीजियस पब्लिक रिसर्च इंस्टिट्यूट है जो कि मैथमैटिक्स, फिजिक्स केमिस्ट्री, बायोलॉजी,कंप्यूटर साइंस और साइंस एजुकेशन में बेसिक रिसर्च प्रदान करता है| यह मुम्बई के कोलाबा क्षेत्र में समुद्र के किनारे स्थित है।

यह डिपार्टमेंट ऑफ़ एटॉमिक एनर्जी के अम्ब्रेला तले गवर्नमेंट ऑफ़ इंडिया का नेशनल सेंटर है|और इसे आधिकारिक रूप से डीम्ड यूनिवर्सिटी का दर्जा 2002 में मिला|

टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ़ फंडामेंटल रिसर्च की शुरुआत साइंटिफिक रिसर्च इंस्टिट्यूट के तौर पे हुई थी|होमी जे भाभा ने एक वैज्ञानिक शौध संस्थान स्थापित करने के लिए वित्तीय सहायता का अनुरोध करते हुए सर दोरबजी टाटा ट्रस्ट को लिखा था। जिसके उपरांत 1945 में
होमी जे भाभा के विज़न में टाटा ग्रुप के चेयरमैन जे.आर डी टाटा की मदत से इसकी नीव रखी गई|शुरुआती दौर में यह इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस,बंगलौर के कैंपस में ऑपरेट होता था|

यहां मुख्यतः नेचुरल साइंस, मैथमैटिक्स और कम्प्यूटर साइंस के क्षेत्र में रिसर्च होता है।
जिसके मद्देनजर इसे तीन स्कूलों में बाटा गया है:- स्कूल ऑफ़ मैथमैटिक्स, स्कूल ऑफ़ नेचुरल साइंस और स्कूल ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड कंप्यूटर साइंस

भारत के सबसे पहले डिजिटल कंप्यूटर TIFRAC को 1957 में टीआईएफआर में बनाया गया था|यहाँ तक कि भारतीय स्वतंत्रता के कुछ समय बाद, 1949 में, वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) ने TIFR को परमाणु अनुसंधान में सभी बड़े पैमाने पर परियोजनाओं के लिए केंद्र के रूप में नामित किया था।वहीं 1950 के दशक में अपने स्थापना के बाद से, गणित में कई शानदार योगदान TIFR स्कूल ऑफ मैथमैटिक्स से आए हैं।

आगे चलकर नए लैब और एकोमोडेशन के लिए जगह को ध्यान में रखते हुए मुंबई के अलावां हैदराबाद,पुने और बंगलौर में भी सेंटर रखा गया|

टीआईएफआर इंटीग्रेटेड पीएचडी डिग्री ऑफर करता है जिसमें M.Sc + Ph.D बायोलॉजी, M.Sc + Ph.D फिजिक्स, M.Sc + Ph.D मैथमैटिक्स, M.Sc + Ph.D केमिस्ट्री, एमएससी बायोलॉजी, M.Sc वाइल्ड लाइफ साइंस, पीएचडी फिजिक्स और पीएचडी साइंस शामिल है।

Copyright © All Rights Reserved.

Subscribe to newsletter