Latest News
Articles

ऐकडेमिक और रीसर्च के क्षेत्र का रास्ता खोलती है UGC-NET

November 11, 2019

नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट(NET) या UGC-NET ऐकडेमिक और रीसर्च के क्षेत्र में जाने का क्वालीफाइंग एग्जाम है जो साल में दो बार आयोजित होता है|साल में जून और दिसंबर के महीने में आयोजित होने वाले इस एग्जाम में लगभग 20 लाख स्टूडेंट्स अपीयर होतें हैं| पहले यूजीसी नेट की परीक्षा का आयोजन सीबीएसई द्वारा किया जाता था। लेकिन अब नैशनल टेस्टिंग एजेंसी परीक्षा का आयोजन करती है। UGC-NET 84 विषयों में आयोजित की जाती है|

राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (NET) भारतीय यूनिवर्सिटीज और कॉलेजों में सहायक प्रोफेसर या जूनियर रिसर्च फैलोशिप और सहायक प्रोफेसर दोनों के लिए योग्यता निर्धारित करता है।

UGC-NET एग्जाम में बैठने के लिए आवेदक के पास कम से कम 55 फीसदी अंकों के साथ पीजी डिग्री होनी चाहिए। आरक्षित श्रेणी के आवेदकों को 50 फीसदी नंबर होने चाहिए। पोस्ट ग्रैजुएशन फाइनल ईयर का एग्जाम देने वाले कैंडिडेट्स भी आवेदन कर सकते हैं।वहीं आयु सिमा की बात करें तो जेआरएफ के लिए कैंडिडेट्स की अधिकतम आयु सीमा 20 साल होनी चाहिए। जबकि
असिस्टेंट प्रफेसर के लिए आयु सीमा निर्धारित नहीं की गई है।

नेट के एग्जाम में स्टूडेंट्स को दो पेपर पेपर -1 और पेपर -2 से होकर गुजरना होता है| पेपर-1 सभी स्टूडेंट्स के लिए कॉमन पेपर होता है जबकि पेपर-2 में स्टूडेंट्स को अपने विषय को चुनना होता है|तीन घंटे चलने वाले इस पेपर में पेपर-1 100 मार्क्स का और पेपर-2 200 मार्क्स का होगा|

JRF और असिस्टेंट प्रोफेसर दोनों के लिए क्वालीफाइंग मार्क्स जनरल केटेगरी स्टूडेंट्स के लिए दोनों पेपर का एग्रीगेट 40 फीसदी मार्क्स है|जबकि रिज़र्व केटेगरी कैंडिडेट्स के लिए कटऑफ 35% होता है|हालाँकि, सहायक प्रोफेसर के लिए विशेष योग्यता रखने वाले अभ्यार्थी जेआरएफ के लिए योग्य नहीं होंगे|
रिपोर्ट के मुताबिक जून-2019 की परीक्षा 55,701 कैंडिडेट क्वालीफाई हुए थे|जिसमे 4756 कैंडिडेट्स JRF के लिए क्वालीफाई थे|जबकि 2018 में यह संख्या 45,737 थी|

भारत की सबसे पुरानी मॉडर्न यूनिवर्सिटी कलकत्ता यूनिवर्सिटी
भारत की सबसे पुरानी आधुनिक यूनिवर्सिटी कलकत्ता यूनिवर्सिटी

Copyright © All Rights Reserved.

Subscribe to newsletter