Latest News
News

केवल 14 फीसदी फॉरेन मेडिकल ग्रेजुएट्स ही भारत में मेडिकल की प्रैक्टिस के लिए हो पाए सफल

December 7, 2019

पिछले पांच सालों 2014 से 2018 के बीच भारत में मैडिसिन की प्रैक्टिस के लइसेंस के लिए केवल 14 फीसदी फॉरेन मेडिकल ग्रेजुएट्स ही परीक्षा में क्वालीफाई हो सके|NDTV के रिपोर्ट के मुताबिक इन पांच सालों में 74,202 कैंडिडेट्स फॉरेन मेडिकल ग्रेजुएट एग्जाम (FMGE) के लिए अपीयर हुए थे जिनमे से केवल 10,400 कैंडिडेट्स ही परीक्षा में सफल हो पाए|

भारत में मेडिसिन की प्रैक्टिस के लिए विदेशी मेडिकल कॉलेज ग्रेजुएट्स को लाइसेंस देने वाली परीक्षा को फॉरेन मेडिकल ग्रेजुएट एग्जाम (FMGE) कहा जाता है और यह स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त निकाय, नेशनल बोर्ड ऑफ एग्जामिनेशन द्वारा आयोजित किया जाता है।इस आल इंडिया बेसिस पर मॉडर्न मेडिसिन में पोस्टग्रेजुएट एग्जामिनेशन के मानकों को स्थापित करके मेडिकल एजुकेशन की गुणवत्ता में सुधार के लिए स्थापित किया गया था।

Copyright © All Rights Reserved.

Subscribe to newsletter