Latest News
News

Study WEF:पासवर्ड नहीं है लम्बे वक़्त के लिए सुरक्षित,आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग जैसे टूल्स का करना होगा इस्तेमाल

January 24, 2020

एक अध्ययन में कहा गया है कि पासवर्ड का न होना हमारे लिए सुरक्षित है, और पांच वैश्विक डेटा उल्लंघनों में से चार के औसत के लिए कमजोर या चोरी हुए पासवर्ड एकाउंटिंग है|

वर्ल्ड इकोनॉमिक फ़ोरम द्वारा जारी की गई रिपोर्ट, जिसे 2020 की वार्षिक बैठक के दौरान कहा गया कि अपने आप को पासवर्ड से मुक्त करने से वास्तव में व्यक्तियों को सुरक्षित और व्यवसायों को अधिक कुशल बनाया जा सकेगा|

साइबर क्राइम 2020 में वैश्विक अर्थव्यवस्था USD 2.9 मिलियन प्रति मिनट खर्च करने के लिए तैयार है, और इनमें से लगभग 80 प्रतिशत हमले पासवर्ड से संबंधित हैं।

अध्ययन में पाया गया कि नॉलेज बेस्ड ऑथेंटिकेशन चाहे पिन, पासवर्ड, पासफ़्रेज़, या जो कुछ भी हमें याद रखने की आवश्यकता है, न केवल उपयोगकर्ताओं के लिए एक प्रमुख सिरदर्द है, इसे मेंटेन रखना महंगा भी है|

बड़े व्यवसायों के लिए, यह अनुमान लगाया गया है कि लगभग 50 प्रतिशत आईटी हेल्प डेस्क की लागतें पासवर्ड रीसेट करने के लिए आवंटित की जाती हैं, अकेले स्टाफिंग के लिए 1 मिलियन अमरीकी डालर से अधिक की कंपनियों के लिए औसत वार्षिक खर्च है।

WEF ने कहा, “पासवर्ड लेस ऑथेंटिकेशन का अर्थ हमारे डिजिटल समाज में सभी सिक्योरिटी बैरियर को दूर करना नहीं है। इसका मतलब है कि यूजर का समय बचाने और कंपनी के पैसे बचाने के लिए आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग जैसे साधनों का उपयोग करना।”

FIDO एलायंस के सहयोग से तैयार की गई रिपोर्ट ने ग्लोबल कंपनियों द्वारा इम्प्लीमेंटेशन करने के लिए तैयार पांच शीर्ष पासवर्डलेस ऑथेनिकेशन टेक्नोलॉजी का सुझाव दिया है। इनमे बॉयोमीट्रिक्स, बिहैवियर एनालिटिक्स, जीरो नॉलेज प्रूफ, क्यूआर कोड और सिक्योरिटी की शामिल हैं।आगे का रास्ता मानकों-आधारित, क्रिप्टोग्राफिक रूप से सिक्योर ऑथेंटिकेशन के साथ है जो मूलभूत रूप से यूजर को बेहतर अनुभव प्रदान करते हुए लॉगिन इनफार्मेशन को सुरक्षित और निजी रखता है|

भारत की सबसे पुरानी मॉडर्न यूनिवर्सिटी कलकत्ता यूनिवर्सिटी
भारत की सबसे पुरानी आधुनिक यूनिवर्सिटी कलकत्ता यूनिवर्सिटी

Copyright © All Rights Reserved.

Subscribe to newsletter