Latest News
Articles

गेमिंग में क्रिएटिव लोगों की ख़ासा डिमांड

April 13, 2019

गेमिंग विश्व में बहुत तेजी से उभरता हुआ क्षेत्र है,जहां हर रोज कुछ न कुछ रचनात्मक हो रहा है| कंप्‍यूटर गेम के बाद मोबाइल गेम को लेकर लोगों के बीच क्रेज समय के साथ बढ़ गया है| इन गेम्स का खुमार लोगों के सर चढ़कर बोल रहा है| अगर जॉब के लिहाज से देखें तो यह आने वाले समय में यह हॉट सेक्टर होगा| विडियो गेम के निर्माण में मल्टीमीडिया, ग्राफिक्स सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में अच्छा कमांड होना जरूरी होता है| इसके अलावा गेम डेवलपर का खेल के प्रति गहरा लगाव भी होना चाहिए| जैसे –जैसे टेक्नोलॉजी का विकास हुआ साथ ही वैसे ही गेम की दुनिया ने भी उसी रूप में अपने आप को ढाला,पहले कंप्यूटर गेम और फिर मोबाइल गेम| गेमिंग एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री का बहुत बड़ा हिस्सा है,जहां अच्छे गेम डेवलपर की खासी जरुरत है|एक गेम का निर्माण क्रिएटिविटी और टेक्नोलॉजी के मेल से होता है| गेमिंग इंडस्ट्री में बने रहने के लिए हर वक्त कुछ न कुछ नया करना जरूरी होता है, क्योंकि इस क्षेत्र में बहुत ही प्रतिस्पर्धा है, हर दिन किसी न किसी गेम की इजात होता रहता है| एक गेम डेवलपर के लिए ये जानना भी जरूरी होता है कि गेम मोबाइल या कंप्यूटर में से किस प्लेटफार्म पर ज्यादा खेला जाएगा|

कैंडी क्रश सागा, सब वे सर्फ़र, टेंपल रन, एंग्री बर्ड्स और हिल क्लाइंब ये ऐसे गेम हैं जिसे करोड़ों लोगों ने अपने फ़ोन में डाउनलोड किया हुआ है|

किसी गेम को डेवलप करने के लिए जटिल प्रक्रिया से होकर गुजरना होता| मोटा मोटी तौर पे बात करें तो सबसे पहले वीडियो गेम की स्क्रिप्ट में लिखित रूप में यह तय कर लिया जाता है कि गेम में कौन से पात्र डाले जाएँ तथा कैसे दृश्य निर्मित किए जाएँ। इसके बाद स्टोरी बोर्ड तैयार किया जाता है जिसमें सभी संभावित दृश्यों के फ्रेम तैयार किए जाते हैं। इसके बाद एडोब फोटोशॉप सॉफ्टवेयर में 3-डी तथा फोटोमैस सॉफ्टवेयर में 2-डी एनिमेटेड चित्र बनाए जाते हैं|

योग्यता:

गेमिंग इंडस्ट्री में नौकरी हासिल करने वाले उम्मीदवारों को डिजाइनिंग, प्रोग्रामिंग, फाइन आर्ट्स , सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट और फ्रेमिंग का ज्ञान होना चाहिए। इस क्षेत्र में जावा, C, C++, 2डी गेम डेवॅलपर्स, 3डी डेवॅलपमेंट के जानकारों के लिए असीम संभावनाएं मौजूद हैं|

करियर:

अब कंप्यूटर गेम के बाद मोबाइल गेम का मार्केट काफी तेजी से बढ़ रहा है| देश में अभी गेम डेवलपमेंट के क्षेत्र में इंडिया गेम, पाराडौस, वी-बीइंग जैसी कुछ प्रमुख कंपनियाँ काम कर रही हैं। इसके अलावा सोनी, ईए जैसी मल्टीनेशनल कंपनियाँ भी भारत में अपनी उपस्थिती दर्ज कर चुकीं है। भविष्य में इन्हीं कंपनियों में करियर की अपार संभावनाएँ प्रोफेशनल्स तलाश सकते हैं। मॉइक्रोसॉफ्ट,  एक्स-बॉक्स, सोनी का प्लेस्टेशन-2, गेम साइट्स, इन सभी का जबरदस्त क्रेज बना हुआ है| ऐसे में गेम डेवलपर की मांग बढेगी ही| काम के लिहाज से इसे कंप्यूटर गेम प्रोड्यूसर, गेम डिज़ाइनर, एनिमेटर, ऑडियो प्रोग्रामर और ग्राफिक प्रोग्रामर जैसे जॉबरोल में बाटा गया है| इस फील्‍ड में कई तरह से काम किया जा सकता है|गेमिंग की दुनिया इतनी बड़ी है जिसका अंदाजा आप इसी से लगा सकतें हैं कि आज हॉलीवुड़ और बॉलीवुड़ जैसी फिल्म इंडस्ट्री में कुछ मूवीज़ ऐसी भी बनी जिनके ऊपर गेम बनाया गया, और लोगों ने इसे काफी पसंद भी किया|

गेमिंग में कई कॉलेज स्पेशलाइज कोर्सेज भी ऑफर करते हैं| भारत में गेमिंग के लिए कोर्स ऑफर करने वाले बेहतरीन इंस्टिट्यूट इस प्रकार है:-

इंटरनेशनल एकेडमी ऑफ़ कंप्यूटर ग्राफ़िक्स

डिज्नी, इन्डिया

एरीना मल्टीमीडिया

नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ डिजाइन पाल्दी, अहमदाबाद

MAAC, इन्डिया

सेंटर फॉर इलेट्रॉनिस डिजाइन एंड टेक्नोलॉजी ऑफ इंडिया, चंडीगढ़

इंडियन स्कूल ऑफ़ गेमिंग

फॉरच्यून इंस्टिट्यूट ऑफ कम्युनिकेशन, नई दिल्ली

भारत की सबसे पुरानी मॉडर्न यूनिवर्सिटी कलकत्ता यूनिवर्सिटी
भारत की सबसे पुरानी आधुनिक यूनिवर्सिटी कलकत्ता यूनिवर्सिटी

Copyright © All Rights Reserved.

Subscribe to newsletter