Latest News
News

कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान धनवान, युवा और शिक्षित व्यक्ति सबसे अधिक कर रहें इंटरनेट का इस्तेमाल

April 5, 2020

कोरोना महामारी के प्रकोप के चलते दुनियाभर के कई देशों में लॉकडाउन लगाया गया है, बहुत जरूरी काम से ही लोग बाहर निकल रहे हैं| ऐसे में अधिकतर लोगों के लिए वक़्त बिताने के लिए इंटरनेट और स्मार्टफोन ही सबसे बड़ा माध्यम बना हुआ है|

हालहीं में प्यू रिसर्च सेंटर (Pew Research Centre) द्वारा जारी किये गए नए विश्लेषण में इंटरनेट और स्मार्ट फ़ोन इस्तेमाल करने के मामले में धनवान, युवा और शिक्षित लोगों की संख्या सबसे अधिक बताई गई|

The Hindu के रिपोर्ट के मुताबिक़ भारत में 18 से 29 साल के बीच 57 फीसदी युवा इंटरनेट और स्मार्टफोन का उपयोग करतें है| जबकि 50 साल से अधिक उम्र के 18 फीसदी लोग इंटरनेट और स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं|

इंडोनेशिया में उम्र के आधार पर इंटरनेट इस्तेमाल करने में काफी बड़ा अंतर देखने को मिला , जिसमें 18-29 वर्ष के 89% लोग इंटरनेट का उपयोग करते हैं या स्मार्टफोन रखतें हैं| जबकि 50 से अधिक उम्र के लिए यह आकड़ा 24 फीसदी बताया गया|

पढ़े लिखे 69 फीसदी लोगों की तुलना में कम शिक्षित तेईस फीसदी लोगों ने भारत में इंटरनेट का उपयोग किया।जबकि इज़राइल, कनाडा, यू.के., ऑस्ट्रेलिया, स्वीडन, नीदरलैंड और दक्षिण कोरिया जैसे देशों में इंटरनेट इस्तेमाल करने के मामले में इन दो समूहों के बीच यह अंतर 10 फीसदी से भी कम पाया गया।

सर्वे के मुताबिक ऐसे लोग जिनका इनकम औसत दर्जे से अधिक है वे औसत दर्जे से कम आय वाले लोगों की तुलना में इंटरनेट का उपयोग अधिक कर रहें हैं। भारत के लिए ये आकड़ा क्रमशः 51% और 27% है। जबकि ऑस्ट्रेलिया, स्पेन, नीदरलैंड और दक्षिण कोरिया जैसे देशों में दो आय समूहों के बीच 10 फीसदी से कम का अंतर है।

गौरतलब है कि भारत इंटरनेट का उपयोग / स्मार्टफोन रखने के मामले में अन्य उभरती अर्थव्यवस्थाओं की तुलना में 38% के साथ केन्या, (48%) और लेबनान (89%) जैसे देशों से भी पीछे है|दक्षिण कोरिया में इंटरनेट उपयोगकर्ताओं का प्रतिशत सबसे अधिक 98% था, जबकि इटली में 10 में से आठ लोग इंटरनेट का उपयोग करतें हैं|

सर्वेक्षण किए गए 32 से अधिक देशों में, कम से कम आधी आबादी ने कभी-कभी इंटरनेट का उपयोग करने या स्मार्टफोन रखने की सूचना दी।

आपको बता दें कि भारत के दक्षिण एशियाई पड़ोस में चीन और अन्य देश सर्वेक्षण किए गए 34 देशों की सूची में शामिल नहीं है।

Copyright © All Rights Reserved.

Subscribe to newsletter