Latest News
News

आर्कटिक के ऊपर Ozone Layer का सबसे बड़ा होल हुआ खुद से ठीक

April 28, 2020

इस महीने की शुरुआत में, वैज्ञानिकों ने असामान्य वायुमंडलीय परिस्थितियों के कारण आर्कटिक के ऊपर होने वाले ओजोन परत में छेद की सूचना दी थी। जहाँ अब C3S (कॉपरनिकस क्लाइमेट चेंज सर्विस) और CAMS (कॉपरनिकस एटमॉस्फियर मॉनिटरिंग सर्विस) ने पुष्टि किया है कि ओजोन परत में वह छेद ठीक हो गया है|

कोपरनिकस ECMWW के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने ट्वीट करते हुए कहा कि  2020 उत्तरी गोलार्ध ओजोन होल समाप्त हो गया है।

आर्कटिक के ऊपर यह छेद 10 लाख वर्ग किलोमीटर का था जिसे इस साल मार्च महीने में पहचाना गया था|यह ओजोन परत का सबसे बड़ा छेद माना जाता है|यदि यह छेद दक्षिण की ओर बढ़ा होता, तो इससे मध्य अक्षांशों में भयावह परिणाम उत्पन्न हो सकते थे।

वैज्ञानिकों के अनुसार, दुनिया भर में कोरोनोवायरस लॉकडाउन के चलते कम प्रदूषण के स्तर के कारण ऐसा नहीं हुआ।जबकि ओजोन परत में यह होल Polar vertex(ध्रुवीय भवर), अधिकतम ऊंचाई वाली धाराएं हैं जो ध्रुवीय क्षेत्र में ठंडी हवा लाती हैं की वजह से ठीक हुआ है|

ओजोन परत पृथ्वी के समताप मंडल (Stratosphere) में एक ढाल की तरह है जो पृथ्वी को सूर्य की अल्ट्रा-वायलेट किरणों से बचाती है जो कि त्वचा कैंसर का एक प्रमुख कारण है।

Copyright © All Rights Reserved.

Subscribe to newsletter