Latest News
News

डेक्सामेथासोन कोरोना संक्रमण से जान बचाने में कारगर दवा बनकर उभरी

June 16, 2020

कोरोना से गंभीर रूप से बीमार मरीजों के लिए एक अच्छी खबर सामने आई है| ब्रिटेन के विशेषज्ञों का कहना है कि डेक्सामेथासोन दवा के इस्तमाल से कोरोना वायरस से संक्रमित गंभीर रूप से बीमार मरीज़ों की जान बचाई जा सकती है|

यह दवा सस्ती और हर जगह आसानी से उपलब्ध हो जाती है इसलिए ग़रीब देशों के लिए भी काफ़ी फ़ायदेमंद साबित हो सकता है|

बीबीसी के खबर के मुताबिक गंभीर रूप से बीमार जिन मरीजों को वेंटिलेटर का सहारा लेना पड़ रहा है उनमे इस दवा की वजह से मरने का जोखिम क़रीब एक तिहाई कम हो जाता है और जिन्हें ऑक्सीजन की ज़रूरत पड़ रही है, उनमें पांचवें हिस्से के बराबर मरने का जोखिम कम हो जाता है|

शोधकर्ताओं का अनुमान है कि अगर इस दवा का इस्तेमाल ब्रिटेन में संक्रमण के शुरुआती दौर से ही किया जाता तो फिर क़रीब पाँच हज़ार लोगों की जान बचाई जा सकती थी|

आपको बता दें कि डेक्सामेथासोन 1960 के दशक से गठिया और अस्थमा के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा है|

इस टीम के मुख्य अध्ययनकर्ता प्रोफ़ेसर पीटर हॉर्बी ने कहा, “यह एकमात्र ऐसी दवा है अब तक जिसके असर से मृत्यु दर में कमी देखी गई है और यह कमी इतनी है जो कि काफ़ी अहम मात्रा में है. यह एक बड़ी कामयाबी है.”

एक अन्य रीसर्चर प्रोफ़ेसर मार्टिन लैंड्रे का कहना है कि इस दवा की मदद से वेंटिलेटर के सहारे जीवित हर आठ में से एक की ज़िंदगी बचाई जा सकती है और वहीं जिन्हें ऑक्सीजन की ज़रूरत पड़ रही है उनमें से क़रीब हर 20-25 मरीजों पर एक मरीज़ की जान बचा सकते हैं|

प्रोफ़ेसर लैंड्रे ने कहा कि कोरोना के जिन मरीज़ों में हल्के लक्षण हैं, उनको यह दवा कोई मदद नहीं पहुँचा पाती है|साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जब ज़रूरत पड़े तो अस्पताल में भर्ती मरीज़ों को ही यह दवा देनी चाहिए और लोगों को यह दवा बाज़ार से ख़रीद कर अपने घरों पर रखने की ज़रूरत नहीं है|

Copyright © All Rights Reserved.

Subscribe to newsletter